Monday, May 23Welcome Guest !

सिग्नल लाल होते ही ट्रेन में लग जाएगा ब्रेक

दिल्ली / एनसीआर (DID News): सिग्नल लाल होने पर ट्रेन अब आगे नहीं बढ़ पाएगी। सिग्नल के पास ट्रेन के पहुंचते ही स्वत: ब्रेक लग जाएगा और इंजन काम करना बंद कर देगा। ट्रेन दुर्घटना रोकने के लिए मुरादाबाद रेल मंडल के सहारनपुर से लखनऊ तक सभी जगहों पर सिग्नल पर डिवाइस लगाए जाने का प्रस्ताव मुख्यालय को भेजा गया है।

रेल प्रशासन ट्रेन दुर्घटनाओं को रोकने और तेज गति से ट्रेन चलाने के लिए लगातार पुराने रेलवे लाइन व स्लीपर को बदलने का काम कर रहा है। इसके बाद भी मानवीय भूल के कारण ट्रेन दुर्घटना में कोई कमी नहीं आई है। कई बार चालक की लापरवाही या नींद आ जाने से सिग्नल लाल होने के बाद भी ट्रेन को नहीं रोका जाता है, जिससे ट्रेन आगे जा रही ट्रेन से टकरा जाती है या पटरी से उतर जाती है। कोहरे के समय इस तरह की घटना होना आम हो जाता है।

पिछले दिनों बरेली के पास सीबी गंज स्टेशन का सिग्नल लाल होने के बाद भी किसान एक्सप्रेस के चालक ने ट्रेन नहीं रोका था। रेलवे ने हादसों को रोकने के लिए दुर्घटना रहित डिवाइस तैयार की है। यह डिवाइस सभी सिग्नल और इंजन के अंदर लगाई जाएगी। डिवाइस इंजन के ब्रेक व इंजन को बंद करने वाले सिस्टम से जुड़ा होगा। सिग्नल के पांच सौ मीटर दूर ट्रेन के पहुंचते ही इंजन के अंदर लगी डिवाइस चालक को बता देगा क‍ि सिग्नल आने वाला है और सिग्नल लाल या हरा है। लाल होने पर चालक ब्रेक लगाकर ट्रेन को रोकेगा। इसके बाद भी चालक ब्रेक नहीं लगाता है तो डिवाइस स्वत: ब्रेक लगाना शुरू कर देगा।

इसके बाद सिग्नल के पहले ही ट्रेन रुक जाएगी और इंजन स्वत: बंद हो जाएगा। तकनीकी गलती से एक लाइन पर दो ट्रेनों आ जाती हैं तो आगे व पीछे लगे लाल रोशनी को डिवाइस पकड़ लेगा और ट्रेन को रोक देगा। मुरादाबाद रेल मंडल में सहारनपुर से लखनऊ तक रेलवे लाइन बदलने का काम पूरा हो गया है। इसके बाद इस मार्ग पर 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से ट्रेनों को चलाया जा सकता है। इस मार्ग पर दुर्घटना रहित डिवाइस लगाने का प्रस्ताव तैयार किया है।

इसमें पांच सौ करोड़ रुपये खर्च होना प्रस्तावित है। मंडल रेल प्रशासन ने प्रस्ताव तैयार कर उत्तर रेलवे मुख्यालय के द्वारा रेलवे बोर्ड को भेजा है। इस तरह का प्रस्ताव अन्य रेल मंडल ने भी भेजा है। प्रस्ताव की स्वीकृत‍ि मिलते ही डिवाइस लगाने का काम शुरू हो जाएगा। प्रवर मंडल संकेत व दूरसंचार अभियंता एन कुमार ने बताया कि मंडल मुख्यालय ने दुर्घटना रहित डिवाइस का प्रस्ताव तैयार कर मुख्यालय भेजा है।