Friday, June 18Welcome Guest !

भगवान विश्वकर्मा की पूजा करने से व्यापार में होती है उन्नति

धर्म (DID NEWS): आज विश्वकर्मा जंयती है, विश्वकर्मा भगवान ने सोने की लंका तथा द्वारका जैसे प्राचीन नगरों का निर्माण किया था। प्राचीन नगरों के साथ देवताओं के लिए हथियार भी बनाए, तो आइए हम आपको विश्वकर्मा जयंती का महत्व तथा पूजा विधि के बारे में बताते हैं।

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार सर्वमान्य देव शिल्पी विश्वकर्मा अपने विशेष प्रकार के ज्ञान के देवता तुल्य माने जाते हैं और उन्हें पूजा जाता है। शास्त्रों के अनुसार भगवान विश्वकर्मा के पूजन के बिना कोई भी तकनीकी काम शुभ नहीं माना जाता है।

विश्वकर्मा जयंती हर साल आश्विन महीने की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनायी जाती है। हर साल 17 सितंबर को तकनीकी ज्ञान के रचनाकार भगवान विश्वकर्मा की जयंती मनाई जाती है। लेकिन इस साल 16 सितम्बर को विश्वकर्मा जयंती मनायी जाएगी। ऐसा माना जाता है भगवान विश्वकर्मा के पूजन-अर्चन किए बिना कोई भी तकनीकी कार्य शुभ नहीं माना जाता। इसलिए विश्वकर्मा जयंती के दिन विभिन्न कार्यों में प्रयुक्त होने वाले औजारों, कल-कारखानों में लगी मशीनों की पूजा की जाती है।