Thursday, September 23Welcome Guest !

पुलिसकर्मी पर हमले के 12 घंटे के अंदर तीन आरोपी गिरफ्तार

हवलदार पर हमले के बाद भोपाल पुलिस एक्शन मोड में आ गई है। शुक्रवार को पुलिसकर्मी विजय यादव की पीठ पर चाकू से वार करने वाले आरोपियों की दुकानें हटाने की कार्रवाई की गई। आरोपियों के दुकानों के आसपास अतिक्रमण कर बनाई गईं दुकानें भी हटाई गईं। शुक्रवार सुबह करीब 11 बजे दलबल के साथ मौके पर पहुंची पुलिस ने नगर निगम के साथ मिलकर ये कार्रवाई की। दुकानों के साथ ही उनके घरों पर भी कार्रवाई शुरू कर दी गई। सभी के घरों से सामान निकालकर जब्त किए गए। उधर, हवलदार पर हमले के मामले में पुलिस ने 6 में से 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।कोहेफिजा पुलिस थाने के टीआई अनिल वाजपेयी के अनुसार, घटना में शामिल उमर उर्फ पन्नी के साथ ही साथ करवाला रोड स्थित दुकानों और गुमटियों को हटाया गया है। यहीं पर बदमाश अपनी बैठक करते थे। यहां पर 6 o’clock सेंटर, होंडा एक्सपर्ट स्कूटर सेंटर, सिटी ब्रियानी, वेलकम टी स्टॉल, मेहताब भाई सब्जी वाले, बिग बाईट फास्ट फूड सेंटर, केएमसी पान महसाना सेंटर हुक्का फ्लेवर और केएमसी टी स्टॉल को हटाया गया है।

स्थानीय और दुकानदारों के विरोध को देखते हुए मौके पर पुलिस बल तैनात किया गया, हालांकि लोगों ने विरोध जरूर जताया, लेकिन कार्रवाई पर इसका असर नहीं पड़ा। इससे पहले DIG इरशाद वली और SP भी घायल हवलदार विजय यादव से मिलने अस्पताल पहुंचे थे, हालांकि विजय को अभी ICU में रखा गया है।जानकारी के अनुसार, कोहेफिजा थाने से 200 मीटर दूर हमीदिया अस्पताल के पास पार्किंग के पास ड्यूटी पर थे। इस दौरान पार्किंग के पास दुकानों पर आरोपी देर रात तक बैठे थे। विजय ने उन सभी से वहां से जाने के लिए कहा था, लेकिन बार-बार कहने पर भी आरोपी वहां से नहीं गए। इसके बाद हवलदार और आरोपियों के बीच कहासुनी हो गई। फिर आरोपियों ने विजय के पीठ पर चाकू से हमला कर दिया। जब विजय पर हमला किया, तो मौके पर मौजूद लोगों में से किसी ने उसकी मदद तक नहीं की। इस कारण भी पुलिस ने आसपास के दुकानों पर कार्रवाई की।कोहेफिजा पुलिस पर तीन महीने में दूसरी बार और भोपाल पुलिस पर यह तीसरा हमला है। इससे पहले खानूगांव में जिप्सी में राइफल के साथ बैठे 6 युवकों ने पुलिस का वायरलेस सेट तोड़ा कर मारपीट की थी। आरोपी देर रात जिप्सी में बैठे मस्ती कर रहे थे। इससे एक सप्ताह पहले भी हनुमानगंज थाना क्षेत्र में देर रात चाय की दुकान बंद कराने को लेकर पुलिस पर महिलाओं ने भी खौलती चाय फेंकते हुए पथराव कर दिया था। इसमें तीन से चार पुलिसकर्मी घायल हो गए थे।