Saturday, July 24Welcome Guest !

भगोड़े हीरा कारोबारी ने लंदन की कोर्ट में कहा – भारत की जेलों की स्थिति खराब

 घोटाले में वॉन्टेड हीरा कारोबारी नीरव मोदी भारत आने से बचने के लिए रोज नए हथकंडे अपना रहा है। ब्रिटेन की एक अदालत में बुधवार को हुई सुनवाई के दौरान नीरव के वकीलों ने भारत की जेलों की खराब स्थिति का हवाला दिया। वकीलों ने कहा कि ऐसे में नीरव डिप्रेशन में आकर सुसाइड की स्थिति में भी जा सकते हैं। इस वजह से प्रत्यर्पण नहीं होना चाहिए।

दक्षिण-पश्चिम लंदन में वेंटवर्थ जेल में बंद नीरव वर्चुअली सुनवाई में शामिल हुआ। नीरव के वकीलों ने फरवरी में मजिस्ट्रेट कोर्ट की ओर से प्रत्यर्पण के आदेश देने और अप्रैल में ब्रिटेन की गृह मंत्री प्रीति पटेल द्वारा इसे मंजूरी दिए के खिलाफ याचिका लगाई है।

जस्टिस मार्टिन चेंबरलेन के सामने नई याचिका पर सुनवाई के दौरान नीरव के वकीलों ने बताया कि डॉक्टरों की कमी और भीड़ अधिक होने के कारण कैदियों को जरूरत पड़ने पर हॉस्पिटल ले जाने में देरी होती है। मोदी ने मुंबई की आर्थर रोड जेल में बदहाल स्थिति की जानकारी दी। उनके वकील ने बताया कि आर्थर रोड जेल में डॉक्टर के साथ प्राइवेट कंसल्टेशन की कभी अनुमति नहीं दी गई। उनका कहना था कि मोदी की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है और दबाव बढ़ने से वह मानसिक तौर पर बीमार हो सकते हैं।नीरव के वकीलों ने मनोचिकित्सक डॉ. एंड्रयू फॉरेस्टर की रिपोर्ट का जिक्र किया जिसे वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश किया गया था। फॉरेस्टर ने 27 अगस्त 2020 की रिपोर्ट में कहा था कि फिलहाल तो नहीं लेकिन नीरव में आगे आत्महत्या की प्रवृत्ति बढ़ने का खतरा है। वकीलाें ने भारत में कोरोना के हालात का जिक्र करते हुए यहां की खराब स्वास्थ्य व्यवस्था की भी दलील दी। कोर्ट में अभी सुनवाई जारी है।महाराष्ट्र के प्रिजन डिपार्टमेंट ने 2019 में ही लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट में बैरक नंबर-12 के बारे में जानकारी साझा कर दी थी। प्रिजन डिपार्टमेंट ने बताया था कि नीरव मोदी को जहां रखा जाएगा, वो जगह हाई सिक्योरिटी वाली होगी और वहां उसे मेडिकल फैसिलिटी भी मिलेगी। अगस्त 2020 में वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने बैरक नंबर-12 का वीडियो भी देखा था। इसके बाद ही कोर्ट ने नीरव मोदी को भारत लाने की मंजूरी दी।

कोर्ट ने कहा है कि नीरव मोदी बैरक नंबर-12 में पूरी तरह से सेफ रहेंगे। नीरव की दलील थी कि उसकी मानसिक हालत ठीक नहीं है और अगर उसे भारत भेजा जाता है, तो वो सुसाइड कर लेगा। इस पर भी कोर्ट ने कहा कि बैरक नंबर-12 में नीरव के सुसाइड करने के चांस नहीं हैं, क्योंकि वहां उनकी हेल्थ का पूरा ख्याल रखा जाएगा।