Tuesday, May 11Welcome Guest !

बिहार और झारखण्ड

छपरा में घर से बुलाकर दोस्तों ने गोली मारकर की युवक की हत्या

छपरा में घर से बुलाकर दोस्तों ने गोली मारकर की युवक की हत्या

बिहार और झारखण्ड
छपरा. बिहार के छपरा जिले में घर से बुलाकर दोस्तों ने एक युवक की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना दिघवारा थाना क्षेत्र के अंबिका भवानी हॉल्ट के पास की है। मृतक की पहचान उन्हचक गांव निवासी राजेश्वर राय के बेटे विक्की(20) के रूप में हुई है। दोस्तों ने गुरुवार देर रात वारदात को अंजाम दिया है। शुक्रवार सुबह जब लोगों ने स्टेशन के पास शव को पड़ा देखा तो इसकी सूचना पुलिस को दी। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। घटनास्थल से पुलिस ने एक बाइक भी बरामद किया है। ...
चाय के पैसे मांगने पर दुकानदार की गोली मारकर हत्या

चाय के पैसे मांगने पर दुकानदार की गोली मारकर हत्या

बिहार और झारखण्ड
पटना. राजधानी पटना में बेखौफ अपराधियों ने पैसे मांगने पर चाय दुकानदार की गोली मारकर हत्या कर दी। घटना दीघा थाना क्षेत्र की है। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है और जांच में जुट गई है। मृतक की पहचान रोहतास जिला निवासी मीर कासिम के बेटे सैय्यद बहजाद(48) के रूप में हुई है। घटना के संबंध में पुलिस ने बताया कि सैय्यद बहजाद दीघा थाना क्षेत्र स्थित खान टी के नाम से चाय दुकान चलाया था। दुकान रातभर खुली रहती थी। जेपी सेतु से गुजरने वाले लोग वहां रुककर चाय पीते थे। तीन दिन पहले चार लोगों ने रात करीब दो बजे ट्रक रोककर बहजाद के दुकान पर चाय और कोल्ड्रिंक पी। दुकानदार ने जब पैसे मांगे तो उन लोगों ने पैसे देने से मना कर दिया। विवाद बढ़ा तो ट्रक ड्राइवर ने देख लेने की धमकी दी और बिना पैसा दिए वहां से चले गए। दुकान के स्टाफ ने बताया कि बुधवार...
लचर स्वास्थ्य व्यवस्था से उजड़ रहे परिवार : नीतीश कुमार

लचर स्वास्थ्य व्यवस्था से उजड़ रहे परिवार : नीतीश कुमार

बिहार और झारखण्ड
फिर से एक बार हो, बिहार में बहार हो, फिर से एक बार नीतीश कुमार हो। लिखने वाले ने क्या लिखा था और गाने वाले ने क्या गाया था। लेकिन नीतीश कुमार ने इन दिनों बिहार को जो बनाया है उसे बहारे वाला बिहार तो बिल्कुल भी नहीं कहेंगे। 154 मौतों के एक महीने बाद मुख्यमंत्री जब विधानसभा में बोलने आते हैं तो अपनी तारीफों की झड़ी लगा देते हैं। बिहार के सुशासन वाले मुख्यमंत्री ने 14 सालों में कितना बड़ा तीर मारा है, वो उन्होंने आंकड़ों के सहारे विधानसभा में बताने की कोशिश की। नीतीश ने सदन में जो आंकडें पेश किए उस पर पहले नजर डालते हैं। एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रॉम (एईएस) आम बोलचाल की भाषा में कहें तो चमकी बुखार से 2012 में 424 बच्चों की मौत होती है। 2013 में यह आंकड़ा 222 और 2014 में 379 पहुंचता है। 2015 में 90 और 2016 में 103 और 2017-18 में क्रमश: 54 और 33 बच्चों की मृत्यु हो जाती है। वहीं साल 2019 में 154...
चमकी से हुई 154 मौतों पर विधानसभा में नीतीश कुमार ने दिया ये बयान

चमकी से हुई 154 मौतों पर विधानसभा में नीतीश कुमार ने दिया ये बयान

बिहार और झारखण्ड
पटना। बिहार विधानसभा का मानसून सत्र चल रहा है। बिहार के मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत पर आज नीतीश कुमार ने विधानसभा में बयान दिया है। नीतीश कुमार ने कहा कि जो हुआ वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है, यह बहुत गंभीर मुद्दा है। हमने कई बैठकें की हैं और इस मुद्दे पर चर्चा की है। 28 जून तक 154 बच्चों की मौत हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने वहां का दौरा किया। बिहार सरकार ने बीमारी को लेकर विशेषज्ञों की टीम बनाई। नीतीश ने कहा कि मैंने 2015 में एम्स पटना में एक बैठक की और विभिन्न विशेषज्ञों ने अलग-अलग विचार रखे कि इसका कारण क्या है। इस पर विशेषज्ञ की राय प्राप्त करने के लिए एक रिपोर्ट भी अमेरिका को भेजी गई थी और सभी के विचार अलग थे। सीएम ने कहा कि 2014 से बीमारी के कारणों पर रिसर्च जारी है। इसके अलावा सीएम नीतीश ने कहा कि चमकी बुखार को लेकर जागरूकता अभियान की जरूरत है।...