Friday, June 18Welcome Guest !

धर्म

8 देवियों की साधना कर आप हासिल कर सकते हैं तंत्र-मंत्र और सिद्धियां

8 देवियों की साधना कर आप हासिल कर सकते हैं तंत्र-मंत्र और सिद्धियां

धर्म
हिन्दू धर्म में वर्ष भर में कई व्रत एवं त्यौहार आते है जो विशेष लाभदायक रहते है लेकिन विशेष शक्तियां प्राप्त करने का पर्व गुप्त नवरात्रि का होता है। इन गुप्त नवरात्रि में तांत्रिक क्रियाएं एवं शक्ति साधना करने का विशेष महत्व होता है। इन्ही गुप्त नवरात्रि का महत्व धार्मिक ग्रंथो एवं पौराणिक कथाओं में भी बताया गया है। माह जुलाई की 3 तारिख से गुप्त नवरात्रि प्रारंभ हो रही है। हिंदू पंचाग के अनुसार आषाढ़ माह में आने वाली गुप्त नवरात्रि इस बार आठ दिन की रहेंगी एवं गुप्त साधनाओं से आषाढ़ माह के आठ दिन पूर्ण होंगे। हम आपको बताएंगे कि इन आठ दिन में आपको किसकी पूजा कर गुप्त साधना पूरी करनी है। गुप्त नवरात्र आषाढ़ शुक्ल प्रति पदा बुधवार दिनांक 3 जुलाई से प्रारंभ हो रहे है जो 10 जुलाई बुधवार को पूर्ण होगें। इन आठ दिनों में पूजा अर्चना कर आप कई प्रकार की साधना प्राप्त कर सकते है। यह तो हम सभी जानते ...
8 देवियों की साधना कर आप हासिल कर सकते हैं तंत्र-मंत्र और सिद्धियां

8 देवियों की साधना कर आप हासिल कर सकते हैं तंत्र-मंत्र और सिद्धियां

धर्म
हिन्दू धर्म में वर्ष भर में कई व्रत एवं त्यौहार आते है जो विशेष लाभदायक रहते है लेकिन विशेष शक्तियां प्राप्त करने का पर्व गुप्त नवरात्रि का होता है। इन गुप्त नवरात्रि में तांत्रिक क्रियाएं एवं शक्ति साधना करने का विशेष महत्व होता है। इन्ही गुप्त नवरात्रि का महत्व धार्मिक ग्रंथो एवं पौराणिक कथाओं में भी बताया गया है। माह जुलाई की 3 तारिख से गुप्त नवरात्रि प्रारंभ हो रही है। हिंदू पंचाग के अनुसार आषाढ़ माह में आने वाली गुप्त नवरात्रि इस बार आठ दिन की रहेंगी एवं गुप्त साधनाओं से आषाढ़ माह के आठ दिन पूर्ण होंगे। हम आपको बताएंगे कि इन आठ दिन में आपको किसकी पूजा कर गुप्त साधना पूरी करनी है। गुप्त नवरात्र आषाढ़ शुक्ल प्रति पदा बुधवार दिनांक 3 जुलाई से प्रारंभ हो रहे है जो 10 जुलाई बुधवार को पूर्ण होगें। इन आठ दिनों में पूजा अर्चना कर आप कई प्रकार की साधना प्राप्त कर सकते है। यह तो हम सभी जानते है क...
सभी तरह के पापों से मुक्ति दिलाती है योगिनी एकादशी

सभी तरह के पापों से मुक्ति दिलाती है योगिनी एकादशी

धर्म
हिन्दू धर्म में हर साल 24 एकादशी व्रत रखे जाते हैं। जिस साल पुरुषोत्‍तम मास या मलमास होता है, उस वर्ष 26 एकादशी होती हैं। योगिनी एकादशी भी इन्हीं में से एक है। श्रद्धालु मानते हैं कि इस व्रत को करने से सभी प्रकार के पापों से मुक्ति मिलती है। विष्णु भगवान के लिए रखा जाने वाले इस व्रत को महाव्रत की संज्ञा भी दी जाती है। इस व्रत को करने से सभी तरह के पापों से मुक्ति मिलती है। यह व्रत करने से केवल आम आदमी को ही नहीं बल्कि यक्ष इत्यादि को भी पाप से मुक्ति मिलती है। योगिनी एकादशी के बाद देवशयनी एकादशी आती है जिसके बाद विष्णु भगवान चार महीने के लिए शयन करते हैं। योगिनी एकादशी के व्रत का शास्त्रों में बहुत महत्व दिया गया है। इसकी पूजा विधिपूर्वक की जाती है। प्रातः उठकर भगवान का स्मरण करें उसके बाद नहा कर व्रत का संकल्प लें। पद्मपुराण में कहा गया है कि इस दिन तिल का उबटन लगाकर स्नान करना शुभ ह...