Thursday, September 23Welcome Guest !

जातीय जनगणना को लेकर सियासत तेज

बिहार और झारखण्ड (DID News) :-जातीय जनगणना पर केंद्र सरकार का स्पष्ट रुख जब तक सामने नहीं आ जाता तब तक कांग्रेस इस मामले में अपना आधिकारिक दृष्टिकोण जाहिर करने से बचेगी। इसी रणनीति के तहत पार्टी ने जातीय जनगणना के लिए बिहार के नेताओं की ओर से शुरू की गई मुहिम पर किसी तरह की टिप्पणी करने से परहेज किया। कांग्रेस का मानना है कि जातीय जनगणना का मसला केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में है। जब तक केंद्र इस बारे में अपनी नीति स्पष्ट नहीं करता, तब तक इस बारे में कोई मत जाहिर करने का औचित्य नहीं है।

जातीय जनगणना कराए जाने की मांग के लिए नीतीश कुमार की अगुआई में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिले बिहार के प्रतिनिधिमंडल में सूबे के कांग्रेस नेता भी शामिल थे। इस बारे में कांग्रेस का रुख पूछे जाने पर पार्टी के नेताओं का कहना था कि यह बिहार का सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल था। इसमें भी अहम बात यह है कि इसकी अगुआई भाजपा-जदयू सरकार के मुखिया मुख्यमंत्री नीतीश कुमार कर रहे थे और भाजपा के नेता भी प्रतिनिधिमंडल में शामिल थे। लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर सत्ताधारी दल होने के बावजूद भाजपा ने भी जातीय जनगणना के मसले पर अपना रुख स्पष्ट नहीं किया है।