Monday, May 23Welcome Guest !

पूर्वी निगम में एक ही केंद्र पर होगा समस्याओं का समाधान

नई दिल्ली । लोग कई बार समस्या होते भी चुप बैठे रहते हैं क्योंकि उन्हें इसके बारे में पता ही नहीं होता कि शिकायत कहां करें। हर वार्ड में निगम के कई विभाग होते हैं। किसी ने समस्या सुनी भी तो वह दूसरे विभाग पर टाल देता है। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। पूर्वी दिल्ली नगर निगम सभी वार्डो में एक केंद्र बनाने जा रहा है, जहां निगम से जुड़े हर विभाग की समस्या सुनी जा सकती है। केंद्र सभी विभागों से सामंजस्य बनाए रखेगा। इससे समस्या और शिकायतों पर त्वरित कार्रवाई भी हो सकेगी।

प्रयोग के तौर पर शुरुआत में पार्षद इंदिरा झा के दिलशाद कालोनी और पूर्व महापौर निर्मल जैन के शाहदरा वार्ड में केंद्र बनाया गया है। इसमें सफाई के साथ बिलिंग, उद्यान और वर्क्‍स आदि विभागों के अधिकारियों को जोड़ा गया है। यहां पर सभी विभागों के एक-एक अधिकारी मौजूद रहेंगे। महापौर श्याम सुंदर अग्रवाल ने बताया कि यहां जैसे ही शिकायत या कोई समस्या आएगी तो उसे तुरंत संबंधित विभाग को भेज दिया जाएगा। इसके बाद कार्यवाही की जिम्मेदारी विभाग की होगी।

इसकी रिपोर्ट संबंधित जोन कार्यालयों में जमा करानी होगी। लोगों की सहूलियत के साथ कामकाज को बेहतर बनाने की दिशा में यह योजना काफी कारगर साबित होगी। इसकी पूरी निगरानी कराई जाएगी। इसे जल्द ही सभी वाडरें में शुरू किया जाएगा।

निगम ने शुरू की ई-लाइब्रेरी : पूर्वी निगम ने अपने स्कूलों में आनलाइन पढ़ाई को और अधिक सुदृढ़ करने के उद्देश्य से अध्यापकों व छात्रों के लिए ई-लाइब्रेरी की शुरुआत की है। ई-लाइब्रेरी को निगम के अध्यापकों द्वारा टेक म¨हद्रा फाउंडेशन के सहयोग से तैयार किया गया है। आयुक्त विकास आनंद ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से ई-लाइब्रेरी की शुरुआत की। विकास आनंद ने कहा कि ई-लाइब्रेरी एक ऐसा प्लेटफार्म है, जिसे निगम अध्यापकों द्वारा विशेषज्ञों के साथ मिलकर कोरोना महामारी के दौरान छात्रों को आनलाइन पढ़ाने के लिए तैयार किया गया था।

इसमें कक्षा एक से लेकर कक्षा पांच तक के विद्यार्थियों के लिए हिंदूी, अंग्रेजी, गणित, विज्ञान, सामाजिक अध्ययन समेत कई विषयों के लिए अध्ययन-अध्यापन सामग्री शामिल हैं। इसमें वर्कशीट और आडियो-वीडियो सामग्री भी शामिल हैं। स्कूल प्रधानाध्यापक, शिक्षक और छात्र यूजर आइडी व पासवर्ड के माध्यम से ई-लाइब्रेरी का इस्तेमाल कर सकते हैं। पूर्वी दिल्ली नगर निगम की इस पहल से 354 स्कूलों के 4500 शिक्षकों व करीब 2.25 लाख छात्रों को लाभ मिलेगा।