Thursday, September 23Welcome Guest !

स्कूल संस्थापक ने जला दिए सारे रिकॉर्ड्स तालिबान के हाथ न लग जाए लड़कियों की जानकारी

देश – विदेश (DID News) :-अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना के निकलने और तालिबान का शासन कायम होने के बाद मानवाधिकार संगठन एक बार फिर देश में रहने वाली लड़िकयों-महिलाओं को लेकर चिंता जता रहे हैं। लोगों में डर है कि पहले कि तरह इस बार भी तालिबानी शासन में लड़कियों को सरेआम सजा दी जाएगी। इस बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें अफगानिस्तान में महिलाओं के लिए बोर्डिंग स्कूल की स्थापना करने वाली शबाना बसिज-रसिख को अपनी छात्राओं के रिकॉर्ड्स जलाते देखा जा सकता है।

हालांकि, शबाना का तर्क है कि ऐसा करने की वजह उनकी पहचान मिटाना नहीं, बल्कि बच्चियों और उनके परिवारों को तालिबान से बचाना है।गौरतलब है कि 20 साल पहले तक जब अफगानिस्तान में तालिबान का शासन था, तब शरिया कानून के तहत नियमों के उल्लंघन पर महिलाओं को कोड़े मारने से लेकर सरेआम मौत की सजा भी दी जाती थी। हालांकि, देश में अमेरिकी सेना आने और लोकतांत्रिक सरकार बनने के बाद ऐसी घटनाएं न के बराबर पहुंच गईं। इस बीच तालिबान के सत्ता में वापस आने के डर से अब महिलाओं में डर बैठा है।