Saturday, January 29Welcome Guest !

नाइट कर्फ्यू पर डब्ल्यूएचओ ने खड़े किए सवाल

देश – विदेश (DID News): देश में ओमिक्रोन वैरिएंट के बढ़ते मामलों के बीच डब्ल्यूएचओ ने नाइट कर्फ्यू पर कई सवाल खड़े किए हैं। डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि भारत में कोरोना के नए वैरिएंट से निपटने की बात आती है तो, इस नाइट कर्फ्यू के पीछे कोई विज्ञान नहीं है।

एक टीवी मीडिया को दिए साक्षात्कार में उन्होंने कहा कि भारत जैसे देश को वायरस के प्रसार को रोकने के लिए विज्ञान आधारित नीतियां तैयार करनी चाहिए। रात के कर्फ्यू जैसी चीजें लगाने का इसके पीछे कोई विज्ञान नहीं है। कोरोना को रोकने के लिए साक्ष्य-आधारित उपाय करने होंगे। सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों की एक पूरी सूची है, सरकार को उसे फालो करना चाहिए।स्वामीनाथन ने कहा कि मनोरंजन स्थल वे स्थान हैं जहां ये वायरस सबसे अधिक फैलते हैं। व

हां कुछ प्रतिबंध लगाना स्वाभाविक है। साथ ही उन्होंने कहा कि ओमिक्रोन से निपटने के लिए भारतीयों को तैयार रहने की जरूरत है, लेकिन घबराने की नहीं।डब्ल्यूएचओ वैज्ञानिक ने कहा कि हम भारत में ओमिक्रोन के मामलों में वृद्धि देखने की उम्मीद कर सकते हैं, मुझे लगता है कि यह अभी कुछ शहरों में शुरू हो रहा है और बहुत से लोगों को संक्रमित भी करने जा रहा है।