Tuesday, May 11Welcome Guest !

शीतला अष्टमी व्रत से प्राप्त होती है आरोग्यता

धर्म (DID NEWS): होली के बाद बसोड़ा की पूजा होती है। इस व्रत में मां शीतला की अराधना होती है। इस दिन सच्चे मन से देवी की आराधना से संक्रामक रोग दूर होते हैं तो आइए हम आपको शीतला अष्टमी के व्रत तथा पूजा विधि के बारे में बताते हैं।

हर साल होली के आठवें दिन चैत्र मास में कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को शीतला अष्टमी के रूप में मनाया जाता है। इस साल शीतला अष्टमी 4 अप्रैल 2021 को पड़ रही है। इसे बसोड़ा भी कहा जाता है। शीतला अष्टमी की पूजा विशेष होती है। इसमें अष्टमी से एक दिन पहले शाम को भी प्रसाद का खाना तैयार किया जाता है जिसे बसौड़ा कहते हैं। शीतला अष्टमी के दिन माता शीतला को बासी भोजन का भोग लगाया जाता है और स्वयं भी प्रसाद के रूप में बासी भोजन किया जाता है।